31 August 2010

हम सेवक, तुम स्वामी

वो चापलूसी कला के परमज्ञानी हैं। अगर चापलूसी PHD का विषय होता तो आज वो अपने नाम के आगे Doctor लिखते। वो चापलूसी के इतने महारथी हैं, कि जिसकी उनकी चापलूसी प्राप्त करने वाला व्यक्ति, अपने आपको या तो Superman समझने लगता है, या भगवान। चापलूसी में उन्हें कई सिद्धीया प्राप्त हैं। वो घटिया Joke पर ठहाके लगा सकते हैं… साधारण सी बात में उसके समर्थन में, On demand आंसू गिरा सकते हैं… और समय आने पर गधे को भी बाप बना सकते हैं…अगर भविष्य में चापलूसी का Nobel Prize उन्हें मिले तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए।

दरअसल चापलूसों का और हमारे समाज का Love and Hate relationship है। साहित्य चापलूसों को अगर नफ़रत और घृणा से देखता है, तो धर्म फिल्म और राजनीति में चापलूसों को बहुत ही सम्मानजनक Position मिली है। भगवान उस भक्त से कुछ ज्यादा ही Impress रहते हैं, जो अपने माल को भी 'सब कुछ मालिक का दिया हुआ है' कहता है। ये चापलूसी का ही एक प्रकार है। भगवान ने अपने भक्त को कभी Correct करने की नहीं सोची, कि 'नहीं बेटा ये तेरी मेहनत और बेईमानी की कमाई है।' क्योंकि कहीं न कहीं Free का Credit अच्छा लगता ही है। राजनीति में चापलूसों की कितनी इज्ज़त है, इस पर तो कई किताबें लिखी जा चुकी हैं, इसलिए यहां उस पर जगह waste करना बेकार है।

गांधी जी ने वैसे तो चापलूसी के Support में Direct कुछ भी नहीं कहा, लेकिन उनकी एक बात से चापलूसों को काफी बल मिलता है…कि बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, और बुरा मत कहो" चापलूस यही तर्क देते हैं, कि जब गांधी जी ने कहा है, बुरा मत कहो, तो हम क्यों कहें कि भाईसाब आप बहुत ही बुरे इंसान हैं… और बुरे इंसान को बुरा न कहना ही तो चापलूसी है।

कबीर दास जी भी बड़ी Impractical सी सलाह देकर चले गए… कि निंदक नियरे राखिए, आंगन कुटी छबाए… अब भला कोई अपनी बुराई करने वाले पर, इतना Invest क्यों करना चाहेगा…कि उसे अपने ही आंगन में कुटिया दे के रख ले? और जब गांधी जी ने कहा है, कि बुरा मत सुनो, तो मैं अपनी बुराई क्यों सुनूं…?

फिल्मों में चापलूसों का उतना ही महत्व है, जितना कहानी का। कुछ फिल्में तो बिना कहानी, चापलूसी के दम पर बन गईं…। चापलूसों ने Hero को चढ़ा दिया, कि भाई जब आप हैं, तो कहानी की क्या ज़रूरत, आप खड़े हो जाएंगे तो फिल्म hit हो जाएगी... भाई जोश में खड़े हो गए…Film बैठ गई…!!

चापलूस Director को भी चढ़ा के रखते हैं, कि Sir आपकी Film का एक Scene दूसरे Directors की एक फिल्म के बराबर है…नतीज़ा बेचारा Director एक Scene लेकर बैठा रहता है, और दूसरे पूरी फिल्म बना कर चल देते हैं…।

दुखद बात ये है, कि चापलूसी की कला को वो स्थान नहीं मिल पाया, जो मिलना चाहिए था। कुछ भी हो, लेकिन चापलूसी भी काफी प्राचीन और सफल कला है, जिसका संरक्षण अब ज़रूरी है। कितने परिवार आज चापलूसी के दम पर ही चल रहे हैं। चापलूसों को भी उनको हक मिलना चाहिए, उन्हें सुविधाएं, भत्ते, सुरक्षा सभी मिलना चाहिए, जो आम लोगों को मिलता है। चापलूस दुनिया का सबसे परोपकारी व्यक्ति होता है, जो एक घटिया इंसान को भी कहता है, कि वो महान है। और जिसमें ये कहने का साहस हो, वो खुद कितना महान होगा…।
मैं चाहता हूं, कि आप लोग मेरी चापलूसी में, कुछ अच्छे अच्छे comments छोड़कर जाएं। धन्यवाद ।

© RD Tailang
Mumbai

7 comments:

  1. सच् मुच अच्छा लिखा है,चापलूसी के लिए ब्लॉग को बुरा कहना पड़ेगा.

    ReplyDelete
  2. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    ReplyDelete
  3. काफी अच्छा लिखा है चापलूसों के बारे मे|

    ReplyDelete
  4. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  5. @ RAHUL - THANK YOU VERY MUCH FOR LIKING IT...
    @ SURENDRA SINGH -bahut bahut dhanvyavaad.. main zaroor aapke links se judna chahoonga.. dhanvya vaad
    @ Patali - Thank you very much
    @ Anand - main zaroor aapke sampark main rahoonga yadi koi bhi sahayta ki aavashyakta padi.. dhanyavad..!!

    ReplyDelete